कोरोना को रोकना देशभक्ति है, घर पर रहें इंडिया वाले, 45 दिन में 100 मरीज थे, 6 दिन में 258 हो गए

कोरोना को रोकना देशभक्ति है, घर पर रहें इंडिया वाले, 45 दिन में 100 मरीज थे, 6 दिन में 258 हो गए

कोरोना वायरस को रोकना अकेले प्रशासन के हाथ में नहीं है, अगर इंडिया के लोग खुद इसे रोकने की जिम्मेदारी अपने कंधे पर ना उठा लें। विश्व स्वास्थ्य संगठन व अपनी सरकार की सलाह पर अमल और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनता कर्फ्यू व नवाग्रह अपील के मुताबिक जरूरत ना हो तो घर से बाहर ना निकलने की बात माननी होगी. इसकी वजह है कि कोरोना वायरस भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन फेज में पहुंच चुका है जब ये इटली, अमेरिका, ईरान जैसे देशों की तरह काफी तेजी से फैल सकता है. 

मामले की गंभीरत इस बात से समझिए कि भारत में कोरोना वायरस के पॉजिटिव केस वाले मरीजों की संख्या को 100 तक पहुंचने में 45 दिन का वक्त लगा लेकिन मात्र दिन में ये संख्या 200 को पार करके शुक्रवार की शाम तक 258 हो गई है। मतलब साफ है कि कोरोना तेजी से फैल रहा है. इन 258 लोगों में ज्यादातर वो हैं जो विदेश से लौटे हैं और बाकी उनके संपर्क में आए लोग। भारत में मात्र 4 मौत हुई है और काफी मरीज ठीक भी हुए हैं. दुनिया के पैमाने पर देखें तो चीन से शुरू इस बीमारी के मरीजों की संख्या को 1 लाख पार करने में तीन महीने का वक्त लगा लेकिन मात्र 12 दिन में ये संख्या 2 लाख को पार कर गई है और इस वक्त ढाई लाख के आसपास है। 

 

Description: https://pbs.twimg.com/profile_images/1042053504611835904/89Z3UCCe_normal.jpg

IndiaSpend

✔@IndiaSpend

Since Friday evening, #COVID19 cases in India have increased by 15.6% (35 new cases) to reach 258, as per @MoHFW_India’s latest (March 21, 9 am) update. Explore state-wise data on our interactive monitor here: https://corona.health-check.in

Description: Twitter पर छबि देखें

6

12:30 pm - 21 मार्च 2020

Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता

IndiaSpend के अन्य ट्वीट देखें

संकेत साफ है कि वायरस तेजी से फैल रहा है, संक्रमित लोगों के नए इलाकों में जाने से देश से राज्य और राज्य से शहर तक फैल रहा है। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग, सेल्फ आइसोलेशन, क्वारंटाइन जैसी चीजें बहुत ही जरूरी हैं और ऐसा करने के लिए हमें सरकार या प्रशासन के सलाह की नहीं, खुद को गंभीरता से इस संकट से मुकाबले के लिए तैयार करने की जरूरत है। 22 मार्च को पीएम मोदी ने जनता कर्फ्यू के जरिए लोगों से सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक घर में रहने की अपील की है।

Description: https://pbs.twimg.com/profile_images/1134090740592627712/0Fp-U5-p_normal.png

PMO India

✔@PMOIndia

मैं आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन मांग रहा हूं।

ये है जनता-कर्फ्यू।

जनता कर्फ्यू यानि जनता के लिए,
जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू: PM @narendramodi #IndiaFightsCorona

18.7 हज़ार

8:13 pm - 19 मार्च 2020

Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता

5,285 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

मकसद यही है, लोगों में संक्रमण का चेन टूटे. जरूरत है कि 22 मार्च के बाद भी जरूरत ना हो तो घर पर रहें, बेमतलब बाहर ना निकलें. कम से कम लोगों से मिलने की कोशिश करें क्योंकि पता नहीं कोरोना का वायरस किसके शरीर से किसके शरीर तक पहुंच जाए। कोरोना वायरस के चेन को तोड़ना है तो कुछ दिन चैन से घर पर रहना ही एकमात्र विकल्प है. वो भी भारत जैसे विशाल देश में जिसकी आबादी 130 करोड़ है और आबादी का घनत्व भी काफी ज्यादा है।

फोटो के सूत्र - Web

समाचार के सूत्र  https://www.livehindustan.com/