ज्योतिरादित्य सिंधिया ने BJP ज्वाइन करते ही कह डाली अपने मन की बात

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने BJP ज्वाइन करते ही कह डाली अपने मन की बात

कांग्रेस का दामन छोड़ने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को बीजेपी मुख्यालय के मंच पर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन किया.

 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ज्वाइन की भारतीय जनता पार्टी

 

नई दिल्ली: कांग्रेस का दामन छोड़ने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को बीजेपी मुख्यालय के मंच पर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन किया. इस दौरान उनके साथ बीजेपी के वरिष्ठ नेता धर्मेंद्र प्रधान, विनय सहस्त्रबुद्धि, बीडी शर्मा, अनिल जैन, अरुण सिंह, जय पांडा, जफर इस्लाम मंच पर मौजूद थे. भाजपा ज्वाइन करने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को भी शुक्रिया कहा. सिंधिया ने पीएम मोदी और अमित शाह को इंगित करते हुए कहा, ''उन्होंने हमें अपने परिवार में आमंत्रित किया और एक स्थान दिया, जिसका मैं शुक्रगुजार हूं.''

 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, ''मेरे जीवन में दो तारीखें बहुत महत्वपूर्ण रही हैं. व्यक्ति के जीवन में कई बार ऐसे मोड़ आते हैं जो व्यक्ति के जीवन को बदल कर रख देते हैं और मेरे जीवन में वो दो दिवस है... पहला दिवस 30 सितंबर 2001, जिस दिन मैंने अपने पूज्य पिताजी माधवराव सिंधिया को खोया. एक जीवन बदलने का दिन था.''

 

उन्होंने आगे कहा, ''उसी के साथ दूसरी तारीख 10 मार्च 2020 जो उनकी 75वीं वर्षगांठ थी, जहां जीवन में एक नई परिकल्पना और नया एक मोड़ का सामना करके एक नया निर्णय लिया है. मैंने सदैव माना है कि हमारा लक्ष्य इस भारत मां की जनसेवा होना चाहिए और राजनीति केवल उस लक्ष्य की प्राप्ति का साधन होना चाहिए.''

 

ज्वाइन करने के बाद सिंधिया ने कहा, ''पिछले 18-20 वर्षों में जो मुझे समय मिला है. मैंने प्रदेश और देश की सेवा करने में लगाया. मैं यह विश्वास के साथ कह सकता हूं कि जन सेवा का लक्ष्य आज उस संगठन के माध्यम नहीं हो पा रही है. इसके अतिरिक्त वर्तमान में जो स्थिति में है, वो कांग्रेस पार्टी आज नहीं रही जो पहले थी.''

 

कांग्रेस पर हमला करते हुए उन्होने कहा, ''कुछ पहलू है वास्‍त‍व‍िकता से दूर रहना, जड़ता से दूर रहना. मैं मानता हूं कि इस वातावरण में जहां राज्‍य मध्‍यप्रदेश में एक सपना हमने पिरोया था, जब हमारी सरकार बनी लेकिन 18 माह में वे सपने बिखर गए. किसानों की कर्ज माफी 18 माह में भी नहीं हो पाया. ओलावृष्‍ट‍ि से प्रभावित किसानों को मुआवजा नहीं मिला. वचन पत्र में कहा था कि हर महीने मूल्‍यांकन होगा. ट्रांसफर उद्योग और रेत माफिया चल रहा है.''

 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, ''जहां आज किसान त्रस्त है, नौजवान भी बेबस हो चुका है. रोजगार के अवसर नहीं. वचनबद्ध में कहा गया था कि एक अलाउंस दिया जाएगा. जहां रोजगार उत्पन्न नहीं हो पाए, वहां भ्रष्टाचार हो रहे हैं. आज वहां रेत का माफिया चल रहा है मध्य प्रदेश में.''

 

सिंधिया ने बीजेपी अध्यक्ष का शुक्रगुजार करते हुए कहा, ''मैं जेपी नड्डा की शुक्रगुजार हूं कि उन्‍होंने मुझे यह मंच प्रदान किया. दो बार बंपर समर्थन किसी और पार्टी को ऐसा जनादेश नहीं मिला हो. योजनाओं के क्रियान्वयन की क्षमता और देश का नाम विश्व में फैलाया है. भारत का भविष्य पूर्णरूप से नरेंद्र मोदी के हाथों में सुरक्ष‍ित है. मैं नड्डाजी के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री के दिखाए रास्‍ते पर चलकर जनसेवा और देश के विकास में योगदान देने के लिए प्रतिबद्ध हूं.''

फोटो के सूत्र : Web

समाचार के सूत्र -  https://khabar.ndtv.com/news